एक उमर बीत चली है  तुझे चाहते हुए, तू आज भी बेखबर है  कल की तरह !!

Madbestshayari.com

चलो माना कि हमें प्यार का इज़हार करना नहीं आता, जज़्बात न समझ सको  इतने नादान तो तुम भी नहीं !!

Madbestshayari.com

कुछ उसे भी दूरियाँ पसंद थीं , और कुछ मैंने भी  वक़्त मांगना छोड़ दिया !!

Madbestshayari.com

बाक़ी ही क्या रहा है  तुझे माँगने के बाद बस इक दुआ में छूट गए  हर दुआ से हम !!

Madbestshayari.com

वो सुना रहे थे अपनी  वफाओ के किस्से हम पर नज़र पड़ी तो  खामोश हो गए !!

Madbestshayari.com

तमाम उम्र गुजार देगें हम राह-ए-इंतजार में, झूठा ही सही पर आने का एक वादा तो कर दे !!

Madbestshayari.com

खाली वक़्त में  कभी याद आऊं समझ लेना तुम्हारे अंदर  कहीं जिन्दा हूँ मै !!

Madbestshayari.com

माना की तुझसे दूरियां  कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है, पर तेरे हिस्से का वक्त  आज भी तन्हा गुजरता है !!

Madbestshayari.com

जिसे खोने का डर  हमें सबसे ज्यादा होता है, उसे एक दिन हम  खो ही देते हैं !!

Madbestshayari.com